एक बार फ़िर पूर्व कांग्रेस महिला सचिव उषा श्रीवास ने शिक्षक को बनाया अपना शिकार ट्रांसफर के नाम पर प्रियंका मिश्रा

रायपुर राजधानी में शिक्षकों के ट्रांसफर को लेकर आये दिन नए नए खुलासे सामने आ रहें हैं, इसी कड़ी में एक नया मामला सामने आया है,जहाँ अपने आप को प्रदेश महिला कांग्रेस सचिव बता कर शिक्षक से 1लाख रुपया ट्रांसफर के नाम पर लिया गया है।

 

पूरा मामला इस प्रकार है,उषा श्रीवास,जिसका विवादों से पुराना रिश्ता है, उषा श्रीवास प्रदेश महिला कांग्रेस सचिव थी इनकी इन्ही सब हरकतों को देखते हुए पार्टी ने पद से मुक्त कर दिया था फिर किसी तरह से पिछड़ा वर्ग में प्रदेश सचिव बन गई उसके बाद ओरियंटल पब्लिक स्कूल की संचालिका ने भी 370000 गबन की शिकायत की थी और पत्रकार के घर जा कर जान से मरने की धमकी दी जिसकी शिकायत विधानसभा थाने में की गई थी जिसकी जानकारी होने पर राष्टीय अध्यक्ष ताम्रध्वज साहू के निर्देश पर इन्हें पिछड़ा वर्ग से भी हटाया गया,लेकिन इनके कार्यशैली में कोई बदलाव नही हुआ अब एक नया विवाद सामने आया है, राजधानी के गुड़िहारी निवासी शिक्षक से ट्रांसफर के नाम पर एक लाख रुपया लेने का नया मामला सामने आया है,आप को बतादें शिक्षक टिकेश्वर परगनिहा गरियाबंद के छुरा में शिक्षक पद पर हैंं

उनके माता पिता जी पैरालिसिस से पीड़ित हैं जिस वजह से बीमार माता पिता की देखरेख को लेकर वो चाहते थे कि उनका ट्रांसफर गरियाबंद से रायपुर हो जाये जिसे लेकर उनकी मुलाकात उषा श्रीवास अपने आप को छत्तीसगढ़ प्रदेश महिला सचिव बताती हैं उनके पति संजय श्रीवास से हो गई संजय श्रीवास ने शिक्षक से बताया कि मेरी पत्नी का सीएम साहब से अच्छा जमता है आप का काम हो जाएगा संजय श्रीवास ने अपनी पत्नी ऊषा श्रीवास से शिक्षक कि बात करवाई उषा श्रीवास ट्रांसफर करवा देने की बात कही जिसके बदले में 2 लाख लगेगा,शिक्षक मरता क्या न करता बोला ठीक है शिक्षक ने 70 हजार रुपया ऑनलाइन ऊषा श्रीवास के पति संजय श्रीवास के खाते में ट्रांसफर कर दिया उसके दूसरे दिन शेखर साहू जो अपने आप को कांग्रेस पार्टी में महामंत्री पद पर होना बताया उनके अकाउंट में 30 हजार रुपया ट्रांसफर कर दिया काफी समय बीतने के बाद शिक्षक का ट्रांसफर नही हुआ तो वो पैसा वापस करने की मांग करने लगा जिसे देखते हुए उषा श्रीवास ने उसे रायपुर राजधानी के घड़ी चौक बुलाई जहाँ शीत श्रीवास,नाम का व्यक्ति शेखर साहू और ऊषा श्रीवास मौजूद थी वही शीत श्रीवास जो अपने आप को कांग्रेस पिछड़ा वर्ग का जिलाध्यक्ष बताते हैं ने कहा कि रायपुर के ज्यस्तम्भ चौक पर मैंने डीएसपी को मारा है पुलिस थाना हम लोगो का कुछ नही कर सकती जहाँ जाना हो जाओ शिक्षक के बहुत गिड़गिड़ाने के बाद बोले ठीक है 9 जनवरी को पैसा तुम्हारे खाते में चला जायेगा लेकिन आज तक एक रुपया शिक्षक को वापस नही मिला शिक्षक बेचारा आज भी थाने पुलिस के चक्कर मे दौड़ रहा है

एक बार फ़िर कांग्रेस महिला सचिव उषा श्रीवास और उनके सहयोगियों ने शिक्षक को बनाया अपना शिकार ट्रांसफर के नाम पर प्रियंका मिश्रा

 

रायपुर राजधानी में शिक्षकों के ट्रांसफर को लेकर आये दिन नए नए खुलासे सामने आ रहें हैं, इसी कड़ी में एक नया मामला सामने आया है,जहाँ अपने आप को प्रदेश महिला कांग्रेस सचिव बता कर शिक्षक से 1लाख रुपया ट्रांसफर के नाम पर लिया गया है।

 

पूरा मामला इस प्रकार है,उषा श्रीवास,जिसका विवादों से पुराना रिश्ता है, उषा श्रीवास प्रदेश महिला कांग्रेस सचिव थी इनकी इन्ही सब हरकतों को देखते हुए पार्टी ने पद से मुक्त कर दिया था फिर किसी तरह से पिछड़ा वर्ग में प्रदेश सचिव बन गई उसके बाद ओरियंटल पब्लिक स्कूल की संचालिका ने भी 370000 गबन की शिकायत की थी और पत्रकार के घर जा कर जान से मरने की धमकी दी जिसकी शिकायत विधानसभा थाने में की गई थी जिसकी जानकारी होने पर राष्टीय अध्यक्ष ताम्रध्वज साहू के निर्देश पर इन्हें पिछड़ा वर्ग से भी हटाया गया,लेकिन इनके कार्यशैली में कोई बदलाव नही हुआ अब एक नया विवाद सामने आया है, राजधानी के गुड़िहारी निवासी शिक्षक से ट्रांसफर के नाम पर एक लाख रुपया लेने का नया मामला सामने आया है,आप को बतादें शिक्षक टिकेश्वर परगनिहा गरियाबंद के छुरा में शिक्षक पद पर हैं उनके माता पिता जी पैरालिसिस से पीड़ित हैं जिस वजह से बीमार माता पिता की देखरेख को लेकर वो चाहते थे कि उनका ट्रांसफर गरियाबंद से रायपुर हो जाये जिसे लेकर उनकी मुलाकात उषा श्रीवास अपने आप को छत्तीसगढ़ प्रदेश महिला सचिव बताती हैं उनके पति संजय श्रीवास से हो गई संजय श्रीवास ने शिक्षक से बताया कि मेरी पत्नी का सीएम साहब से अच्छा जमता है आप का काम हो जाएगा संजय श्रीवास ने अपनी पत्नी ऊषा श्रीवास से शिक्षक कि बात करवाई उषा श्रीवास ट्रांसफर करवा देने की बात कही जिसके बदले में 2 लाख लगेगा,शिक्षक मरता क्या न करता बोला ठीक है शिक्षक ने 70 हजार रुपया ऑनलाइन ऊषा श्रीवास के पति संजय श्रीवास के खाते में ट्रांसफर कर दिया उसके दूसरे दिन शेखर साहू जो अपने आप को कांग्रेस पार्टी में महामंत्री पद पर होना बताया उनके अकाउंट में 30 हजार रुपया ट्रांसफर कर दिया काफी समय बीतने के बाद शिक्षक का ट्रांसफर नही हुआ तो वो पैसा वापस करने की मांग करने लगा जिसे देखते हुए उषा श्रीवास ने उसे रायपुर राजधानी के घड़ी चौक बुलाई जहाँ शीत श्रीवास,नाम का व्यक्ति शेखर साहू और ऊषा श्रीवास मौजूद थी वही शीत श्रीवास जो अपने आप को कांग्रेस पिछड़ा वर्ग का जिलाध्यक्ष बताते हैं ने कहा कि रायपुर के ज्यस्तम्भ चौक पर मैंने डीएसपी को मारा है पुलिस थाना हम लोगो का कुछ नही कर सकती जहाँ जाना हो जाओ शिक्षक के बहुत गिड़गिड़ाने के बाद बोले ठीक है 9 जनवरी को पैसा तुम्हारे खाते में चला जायेगा लेकिन आज तक एक रुपया शिक्षक को वापस नही मिला शिक्षक बेचारा आज भी थाने पुलिस के चक्कर मे दौड़ रहा है

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *