दिल्ली में केंद्रीय इस्पात राज्यमंत्री से मिले दया सिंह: BSP के खिलाफ शिकायतों का सौंपा पुलिंदा, सेक्टर-9 हॉस्पिटल में डॉक्टर और सुविधा बढ़ाने मांग, टाउनशिप और खुर्सीपार की समस्याओं पर लंबी चर्चा

– दया सिंह ने केंद्रीय इस्पात राज्यमंत्री को दिया भिलाई आने का न्यौता

– बीएसपी, टाउनशिप के मामलों पर दया के साथ लंबी बातचीत

भिलाई। भाजपा पार्षद दया सिंह इन दिनों दिल्ली दौरे पर है। दया सिंह ने केंद्रीय इस्पात राज्यमंत्री फग्गन सिंह कुलस्ते से मुलाकात की है। इस मुलाकात में दया सिंह ने एक ज्ञापन सौंपा है। ज्ञापन में शिकायतों का पुलिंदा है। जिसमें बीएसपी प्रबंधन के खिलाफ शिकायतों के साथ-साथ कई जरूरी मांग भी है। दया सिंह के साथ लंबी चर्चा में केंद्रीय इस्पात राज्यमंत्री ने पूरी बातों को सुना और दया की बातों को सुनकर उन्होंने आश्वासन दिया। आपको बता दें कि दया ने भिलाई आने का न्यौता भी दिया है।

इन मुद्दों पर केंद्रीय इस्पात राज्यमंत्री कुलस्ते से की चर्चा
भिलाई का सबसे बड़ा अस्पताल पंडित जवाहर लाल नेहरू चिकित्सा एवं अनुसंधान केंद्र व अस्पताल संचालित है। जहां लगातार सुविधाएं कम हो रही है। अस्पताल में डॉक्टर समेत मैनपावर कम हो रहे हैं। वहां मैनपॉवर के साथ-साथ जरूरी संसाधन बढ़ाए जाए, ताकि लोगों को इसका लाभ मिला। सेक्टर-9 अस्पताल में बीएसपी कर्मियों के साथ-साथ प्रदेश के लोगों को बेहतर स्वास्थ्य चिकित्सा का लाभ मिलेगा।

– टाउनशिप के खाली पड़ी जमीन पर बीएसपी आवास बनाए या शॉपिंग कांप्लेक्स, क्योंकि बहुत सारी जमीन खाली पड़ी हुई है। जहां पर लगातार कब्जे हो रहे हैं। उन जमीनों पर अगर बीएसपी प्रबंधन पीएम आवास बनाकर जरूरतमंदों को दे तो लोगों को रहने के लिए पक्का मकान मिल जाएगा। वहीं शॉपिंग कांप्लेक्स की जरूरत है। जिससे सेल-बीएसपी प्रबंधन को राजस्व की प्राप्ति होगी।

– बीएसपी क्षेत्र टाउनशिप और खुर्सीपार में सीवरेज लाइन महत्वपूर्ण समस्याओं में से एक है। सालों से टाउनशिप व खुर्सीपार की बैकलाइन सफाई नहीं हुई है। इस समस्या का समाधान प्रमुखता से होना चाहिए। लाखों लोग परेशान है।

– बीएसपी कर्मियों के वेज रिवीजन से लेकर अन्य जरूरी विषय, जिसका समाधान लंबे समय से नहीं हुआ है। उनके मुद्दों पर भी प्रबंधन को फैसला लेना चाहिए। कर्मचारियों में एक उम्मीद है मोदी सरकार से, इस पर जल्द से जल्द निर्णय लिया जाए।

– टाउनशिप और खुर्सीपार इलाके में लगातार गंदे पानी की आपूर्ति हो रही है। सड़कों की स्थिति ठीक नहीं है। बीएसपी अपनी संपत्तियों का मरम्मत करना बंद कर दिया है। वहीं बीएसपी प्रबंधन का ध्यान इस दिशा में नहीं है। यह समस्या पिछले डेढ़ साल से बनी हुई है। जबकि, स्थानीय कांग्रेस की सरकार ने सिर्फ झूठ कहा है। अभी तक लोगों को मदद नहीं मिली है।

– टाउनशिप में रहने वाले बीएसपी कर्मियों के क्वार्टर की स्थिति ठीक नहीं है। जिन्हें अलॉर्ट हो गया है, उन्हें राहत देने की दिशा में पहल होनी चाहिए। टाउनशिप के क्वार्टर्स का मेंटेनेंस होना चाहिए। बारिश में काफी परेशानी होती है। हालही में एक बीएसपी कर्मी में छज्जा गिर गया था। ऐसे कई मामले लगातार बढ़ते ही जा रहा है।

– टाउनशिप में बंद पड़े बीएसपी के स्कूलों को शुरू किया जाए। चूंकि, शिक्षा के अधिकार कानून के तहत बच्चों की शिक्षा इस कोरोनाकाल में प्रभावित हुई है। ऐसे में शहर के टाउनशिप में बंद हो चुके स्कूलों को दोबारा शुरू किया जाए।

– बीएसपी को स्थापित हुए सालों हो गए हैं। लगातार हादसे होते रहते हैं। वहां सेफ्टी नियमों की अनदेखी भी होती रहती है। पिछले दिनों हादसे में ये चीजें सामने आई है कि बीएसपी प्रबंधन सुरक्षा को लेकर लापरवाह हो गए हैं। ऐसे में बीएसपी प्रबंधन के कर्मियों को सुरक्षा का पाठ पढ़ाया जाए और ताकि हादसे पर नियंत्रण हो सके।

– कोरोनाकाल की दो लहरों में सैकड़ों बीएसपी कर्मियों की जान गई। उनके परिजनों को अभी तक अनुकंपा नियुक्ति नहीं मिली है। जबकि अन्य सरकारी विभागों में कोविड से मृत हो चुके सरकारी अमला के परिजनों के लिए सीट आरक्षित होनी चाहिए।

– बीएसपी का खुद का एयरोडम है, नंदिनी में लगे इलाके में खाली जमीन पर एयरपोर्ट है। इसे दोबारा शुरू करना चाहिए। अभी फिलहाल उस एयरोडम का यूज बढ़ जाएगा। भिलाई के मद्देनजर यह जरूरी चीज है।

 

टाउनशिप और खुर्सीपार की समस्याओं को लेकर भाजपा पार्षदों ने की GM से मुलाकात, गंदे पानी की सप्लाई और बिजली कटौती से त्रस्त है पार्षद

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *