गंगा शरण पासी ने शिक्षक सम्मान पर छत्तीसगढ़ शासन से गुहार लगा या की एक शिक्षक के सम्मान के लिए शिक्षक खुद आवेदन भरे ये शिक्षक का अपमान है शिक्षक क्या क्या काम करता है ये जग जाहिर है उनके सम्मान के लिए आवेदन भरवाना खुद उनके लिए अपमान की बात है अधिकारी खुद मापदंड से शिक्षकों का चयन करे खुद जाकर संस्था में जाच पड़ताल करे उनकी उपस्थिति देखें उनका विषय परिणाम देखें बच्चों के साथ उनका संबंध देखें आवेदन के प्रारूप प्रक्रिया में अच्छे शिक्षक सम्मान में चुक जातें हैं वे शिक्षक सामाजिक कार्यों के साथ साथ साहित्य ओर नवाचारी भी होते हैं आवेदन प्रारुप प्र्रक्रिया में भेदभाव होता है योग्य शिक्षक सम्मान से चुक जातें हैं अच्छा है कि सम्मान चयन कर्ता खुद स्कूल आकर शिक्षकों का चयन कर सम्मान देवें दस्तावेज के अभाव में योग्य शिक्षक सम्मान से चुक रहें हैं

Leave a Reply

Your email address will not be published.