रायपुर । उत्तरप्रदेश में विधानसभा का चुनाव होना है। बताया जा रहा है कि इसी के चलते हिंदू-मुस्लिम जातीय उन्माद फैलाने की साजिश शुरू हो गई है। अलग-अलग सोशल मीडिया प्लेटफार्म के जरिये जातीय फसाद भड़काने की साजिश चल रही है। एक ऐसा ही मामला राजधानी रायपुर की साइबर सेल ने पकड़ा है, जहां कुंटुंब एप के जरिये रायपुर में मुस्लिमों को लेकर भ्रामक जानकारी फैलाने की साजिश रची गई है। रायपुर साइबर सेल के संज्ञान में प्रकरण आने के बाद जब पड़ताल की गयी, तो साजिशकर्ता यूपी का निकला। दरअसल कुंटुम्ब एप के जरिये जिस तरह की जानकारी भ्रामक जानकारी मैसेज में दी गयी है, उसमें रत्ती भर भी सच्चाई नहीं है, लेकिन मैसेज को सनसनीखेज बनाने के लिए उसमें कई ऐसी आपत्तिजनक बातें लिखी गयी है, जो सांप्रदायिक तनाव की वजह बन सकती है। अब इस मामले में साइबर सेल ने कुटुंब एप के जरिये सांप्रदायिक साजिश बुनने वाले युवक को नोटिस भेजा है। अगर जवाब नहीं आया तो कार्रवाई भी की जायेगी।

मैसेज में रायपुर और पूरे छत्तीसगढ़ में इस्लामीकरणकर की बातें लिखी गयी है, साथ ही ये भी कहा गया है कि बाहर से बुलाकर मुसलमानों को बसाया जा रहा है, वहीं मंदिरों के संदर्भ में बेहद ही विवादास्पद बातें लिखी गयी है। रायपुर में 30 हजार से ज्यादा रोंहिग्या मुसलमान को भी बसाने की बात कही जा रही है। साइबर सेल की जांच में अब तक जो बातें सामने आयी है, उसके मुताबिक जिस युवक ने मैसेज वायरल कियाहै, उसका नाम सुशील शुक्ला है, जो अयोध्या उत्तर प्रदेश का रहने वाला है। नोटिस जारी कर युवक से जवाब मांगा गया है। रायपुर पुलिस की नोटिस पर यूपी निवासी आरोपी ने जवाब भेजा है। आरोपी ने कहा है कि उसने सोशल मीडिया से प्राप्त वीडियो को ही अज्ञानतावश शेयर कर दिया था। उसका किसी भी तरह से धार्मिक वैमनस्य फैलाने की कोई मंशा नहीं थी। उसने यह भी लिखा है कि वह अपने इस कृत्य के लिए क्षमाप्रार्थी है। अब देखना होगा कि इस मामले में रायपुर पुलिस आगे क्या करती है।

डेली ताजा ख़बरों को जानने के लिए नीचे दिए लिंक पैर क्लिक करें

 

https://chat.whatsapp.com/Bqg3wxfWjJRK5u5dPSeLJ0

Leave a Reply

Your email address will not be published.