PPF, सुकन्या समृद्धि और NSC समेत तमाम स्मॉल सेविंग स्कीम्स में निवेश करने वालों निवेशकों को जल्द अच्छी खबर मिल सकती है। करीब दो साल बाद सरकार 30 जून को स्मॉल सेविंग स्कीम्स पर ब्याज दरों में बढ़ोतरी का ऐलान कर सकती है। विशेषज्ञों ने यह राय जताई है। विशेषज्ञों का कहना है कि भारतीय रिजर्व बैंक ने रेपो रेट में 50 बेसिस प्वाइंट का इजाफा कर 4.90 फीसदी कर दिया है।

आगे भी महंगाई को काबू करने के लिए रेपो रेट में बढ़ोतरी की तैयारी है। RBI के बाद अधिकांश बैंकों ने एफडी पर ब्याज दरों में बढ़ोतरी की है। ऐसे में सरकार भी देशभर के स्मॉल सेविंग स्कीम्स में निवेशकों करने वाले निवेशकों को खुशखबरी दे सकती है। सरकार 30 जून को स्मॉल सेविंग्स स्कीम पर ब्याज दरों की समीक्षा करेगी। इसमें ब्याज दरों में बढ़ोतरी का ऐलान हो सकता है।

अभी ब्याज दर निचले स्तर पर कोरोना के बाद से सभी तरह के जमा पर निवेशकों को बहुत कम ब्याज मिल रहा है। सविंग अकाउंट पर बैंक 2.5% से लेकर 3% का ब्याज दे रहे हैं। वहीं, एक से तीन साल की एफडी 5.5%, पांच साल की एफडी 6.7% और पांच वर्ष की आरडी 5.8% ब्याज मिल रहा है। डाकघर में वरिष्ठ नागरिक बचत योजना पर 7.4% की दर से ब्याज मिल रहा है। अभी पीपीएफ 7.1%, किसान विकास पत्र 6.9% और सुकन्या समृद्धि योजना 7.6% की दर से ब्याज निवेशकों को मिल रहा है।

बचत पर ब्याज बढ़ाना जरूरी विशेषज्ञों का कहना है कि इस समय आम लोगों को राहत देने के लिए बचत पर ब्याज बढ़ाना जरूरी है। कोरोना के बाद घटी आय के बीच उपभोक्ता आसमान छूती महंगाई से परेशान हैं। ऐसे में छोटी बचत योजनाओं पर ब्याज बढ़ाने का फैसला एक अच्छा कदम हो सकता है। इससे बैंकों के पास छोटी बचत योजनाओं में डिपॉजिट बढ़ेगा। इससे लिक्विडिटी बढ़ेगी और महंगाई को काबू करने में मदद ​भी मिलेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.